पढ़े-लिखे नौजवानों को मोटी सैलरी रास नहीं आई, ऑफिस जाने को स्कूटी चुराई

0
35

खास बातें

  • दिलचस्प है शिक्षित नौजवानों की अपराध की राह पर चलने की कहानी 
  • नामचीन स्कूलों की शिक्षा काम नहीं आई, बदनीयती में इज्जत गंवाई
कोई सोच नहीं सकता है कि 50 से 60 हजार रुपये की मासिक सैलरी पाने वाला स्कूटी चोरी कर सकता है, मगर सिविल इंजीनियर (डिप्लोमा) आकाश चौहान ने यह करतूत अंजाम देकर हर किसी को बैचेन कर दिया।

पुलिस का दावा है कि चौहान ने स्कूटी सिर्फ इसलिए चुराई थी, ताकि गुड़गांव में आफिस से लेकर अपने कमरे तक का सफर तय कर सके। आरोपी को दूर तक अहसास नहीं था कि तीसरी आंख उसकी जुर्म की गवाह बन जाएगी। दूसरे आरोपी टॉप साइक्लिस्ट मोहित ऊबान की ऐसी भी कोई मजबूरी नहीं थी कि उसे अपराध की राह पकड़नी पड़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here